Breaking News

दांत दर्द, दांत सड़ना के जबरदस्त आयुर्वेदिक इलाज


 नीम, बबूल या अमरुद के पेड़ो की लकड़ियों से रोज सुबह दातौन (दतुअन) करने से दाँतों की सारी समस्याओं का नाश होता है ! 

अगर आपको रोज रोज इन पेड़ों की लकड़ियों के दातौन ताजी अवस्था में ना मिले तो कोई चिन्ता की बात नहीं है, 

आप महीने में एक बार किसी गाँव देहात में जाकर इन पेड़ो की छोटी छोटी महीन कई लकड़ियाँ तोड़ के लेते आईये और फिर रोज रात को उन लकड़ियों में से 4 – 5 इंच का टुकड़ा तोड़ लीजिये और उसे रात भर साफ़ पानी में भीगो दीजिये और सुबह उससे दातौन कर लीजिये ! 

इस तरह भी रोज दातौन करना हजार गुना बेहतर है, केमिकल वाले टूथ पेस्ट से ब्रश करने की तुलना में ! दातौन धीरे धीरे करना चाहिए और हो सकता है शुरू शुर में दातौन करने में गलती से मसूढ़े में चोट लग जाय पर धीरे धीरे इसकी आदत पड़ जाती है ! कुछ दिन बाद आप पाएंगे की आपके दांत आपके परचितों के दांत से ज्यादा मजबूत हो चुके हैं !

दालचीनी का तेल रूई में भरकर पीड़ायुक्त दांत के गढ्ढे में रखकर दबा लें | इससे दांत के कीड़े नष्ट होते हैं और दर्द में शांति मिलती है |

फिटकरी गर्म पानी में घोलकर प्रतिदिन कुल्ला करने से दांतों के कीड़े और बदबू ख़त्म हो जाती है|

कीड़े युक्त या सड़े हुए दांतों में बरगद (बड़) का दूध लगाने से कीड़े और पीड़ा दूर होती है |

शुद्ध हींग को थोड़ा गर्म करके कीड़े लगे दांतों के नीचे दबाकर रखने से दांत व मसूड़ों के कीड़े मर जाते हैं |

पिसी हुई हल्दी और नमक को सरसों के तेल में मिला लें | इसे प्रतिदिन 2 – 3 बार दांतों पर मंजन की तरह मलने से दांतों के कीड़े मर जाते हैं |

कीड़े लगे दांतों के खोखले भाग में लौंग का तेल रुई में भिगोकर रखने से भी दांत के कीड़े नष्ट होते हैं |

(नोट – दांत अगर पूरी तरह से सड़ चुका हो तो उसे निकलवा देना ही बेहतर है)

loading...