Breaking News

कुत्ते के काटने का आयुर्वेदिक इलाज ! कभी भी आपके काम आ सकता है, Ayurvedic treatment of dog bite


कुत्ते के काटने के बाद 24 घंटे के भीतर किसी भी कीमत पर करें ये कामकुछ लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि कुत्ते के काटने के बाद सबसे पहले क्या करना चाहिए।

लोग घबराकर आनन-फानन में गलत कदम उठा लेते हैं। मुंबई स्थित सनसाइन हॉस्पिटल में कंसल्टेंट फिजिशन डॉक्टर संदीप सोनवणे के अनुसार, कुत्ते के काटने से रेबीज होने की अधिक संभावना होती है। इसलिए सुरक्षित रहने के लिए तुरंत इलाज कराना सबसे जरूरी है।

कुत्ते के काटने के तुरंत बाद आपको ये काम करने चाहिए कटे हुए घाव पर भूलकर भी कपड़ा ना बांधे। घाव खुला रखें।

घाव वाले हिस्से को साबुन से धोएं। अगर घर में शराब  है, तो उससे धोएं। शराब का एंटीसेप्टिक प्रभाव पड़ता है।
24 घंटे के अंदर डॉक्टर को दिखाएं और इन्फेक्शन से बचने के लिए पहला इंजेक्शन लगाएं।

ऐसे कराएं इलाज
डॉक्टर के अनुसार, इसका इलाज इस बात पर निर्भर करता है कि कुत्ते ने कितनी जोर से काटा है। इसके लिए घाव को साफ़ करना और इंजेक्शन जरूरी है।

मामूली खरोंच के लिए टीका लगवाना सबसे प्रभावी है। अगर कुत्ते ने गहरा काटा है, तो एंटी-रेबीज इम्युनोग्लोबुलिन जरूरी है। ज्यादातर मामलों में डॉक्टर टांकें लगाने से बचते हैं, इससे दूसरे अंग प्रभावित हो सकते हैं।

अगर पालतू कुत्ते ने काटा है तो तीन टीके लगाने होते हैं। यानि पहला टीका कुत्ते के काटने के एक दिन बाद, दूसरा तीन दिन बाद और तीसरा सात दिन बाद।

अगर आवारा कुत्ते ने काटा है, तो आपको तीसरे टीके के बाद एक हफ्ते के अंतराल में पांच से सात टीके लगवाने होंगे।


हल्की खरोंच के मामले में आपको कम से कम तीन टीके लगवाने होंगे।
इससे निपटने के लिए अधिकतर लोग घाव पर लोशन लगा लेते हैं। वास्तव में इससे निपटने के लिए इलाज ही जरूरी है। रेबीज एक वायरल इन्फेक्शन है इस पर एंटीबैक्ट्रियल लोशन लगाने से कोई असर नहीं होता है।

कई लोग इस बात से अंजान हैं कि कुत्ते के काटने पर अगर सही से इलाज ना कराया जाए, तो इससे व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।

कुत्ते के काटने का इलाज ! कभी भी आपके काम आ सकता है
अगर घरेलु कुत्ता काटे तो कोई दिक्कत नही है पर पागल कुत्ता कटे तो समस्या है। सड़क वाला कुत्ता काटले तो आप जानते है नही, उसको इंजेक्शन दिए हुए है या नही, उसने काट लिया तो आप डॉक्टर के पास जायेंगे फिर वो 14 इंजेक्शन लगाएगा वो भी पेट में लगाता है, उससे बहुत दर्द होता है और खर्च भी हो जाता है कम से कम 50000 तक कई बार, गरीब आदमी के पास वो भी नही है । कुत्ता कभी भी काटे, पागल से पागल कुत्ता काटे, घबराइए मत, चिंता मत करिए बिलकुल ठीक होगा वो आदमी बस उसको एक दावा दे दीजिये ।

दावा का नाम है Hydrophobinum   (ये आपको होमोपेथिक स्टोर से मिलेगी) और इसको 10-10 मिनट पर जिव में तिन ड्रोप डालना है । कितना भी पागल कुत्ता काटे आप ये दावा दे दीजिये और भूल जाइये के कोई इंजेक्शन देना है। इस दावा को सूरज की धुप और रेफ्रीजिरेटर से बचाना है। रेबिस सिर्फ पागल कुत्ता काटने से ही होता है पर साधारण कुत्ता काटने से  रेबिस नही होता।


आवारा कुत्तों अगर काट दिया है तो राजीव भाई के अनुसार आप अपना मन का बहम दूर करने के लिए ये दावा दे सकते है लेकिन उससे कुछ नही होता वो हमारा मन का बहम है जिससे हम परेशान रहते है, और कुछ डर डॉक्टरों ने बिठा रखा है कि इंजेक्शन तो लेना ही पड़ेगा।

अपने शरीर में थोड़े बहुत resistance सबके पास है अगर कुत्ते के काटने से उनके लारग्रंथी के कुछ वायरस चले भी गये है तो उनको ख़तम करने के लिए हमारे रक्त में काफी कुछ है और वो ख़तम कर ही लेता है । लेकिन क्योंकि मन में भय बिठा दिया है शंका हो जाती है हमको confirm नही होता जबतक 20000-50000 खर्च नही कर लेते ये उस समय लिए राजीव भाई ने ये दावा लेने की बात कही है। और इसका एक एक ड्रोप 10-10 मिनट में जिव पे तिन बार डाल के छोड़ दीजिये । 30 मिनट में ये दावा सब काम कर देगा ।

कई बार कुत्ता घर के बच्चों से साथ खेल रहा होता है और गलती से उसका कोई दाँत लग गया तो आप उस जखम में थोडा हल्दी लगा दीजिये पर साबुन से उस जखम को बिलकुल मत धोये नही तो वो पक जायेगा, हल्दी Antibiotic, Antipyretic, Antitetanatic, Anti-inflammatory है।