Breaking News

पीरियड्स के दौरान पपीता खाने के फायदे, The benefits of eating papaya during periods,


महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पपीता खाने के इतने हैं फायदे, जानकर हो जाएंगे हैरान..

पपीता गुणों की खान होता और आसानी से आपको उपलब्ध भी हो जाता है। यह फल कच्चा हो या पका इसके आपके लिए फायदेमंद हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि यह मौसम में उपलब्‍ध होता है। पपीते में कई तरह के विटामिन मिलते हैं, अगर नियमित रूप से इसे खाया जाए तो शरीर में कभी विटामिन्स की कमी नहीं होगी। भोजन पचाने में पपीता अत्यंत सहायक होता है। आइये हम आपको विस्तार से पपीते के लाभ के बारे में बताते है।

विटामिन से भरपूर होता है पपीता, 

वजन घटाने में
एक मध्यम आकार के पपीते में 120 कैलोरी होती है। ऐसे में अगर आप वजन घटाने की बात सोच रहे हैं तो अपनी डाइट में पपीते को जरूर शामिल करें। इसमें मौजूद फाइबर्स वजन घटाने में मददगार होते हैं

कोलेस्ट्रॉल कम करन में सहायक

फाइबर से भरपूर होता है पपीता। साथ ही ये विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट्स से भी भरपूर होता है। अपने इन्हीं गुणों के चलते ये कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में काफी असरदार है।

रोग प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने में
रोग प्रतिरक्षा क्षमता अच्छी हो तो बीमारियां दूर रहती हैं। पपीता आपके शरीर के लिए आवश्यक विटामिन सी की मांग को पूरा करता है। ऐसे में अगर आप हर रोज कुछ मात्रा में पपीता खाते हैं तो आपके बीमार होने की आशंका कम हो जाएगी।

आंखों की रोशनी बढ़ाने में
पपीते में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होती है। साथ ही विटामिन ए भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता. इससे न सिर्फ आँखों की रौशनी बढती है बल्कि उम्र से जुड़ी कई समस्याओं के समाधान में भी कारगर है।

पाचन तंत्र को सक्रिय रखने में
पपीते के सेवन से पाचन तंत्र भी सक्रिय रहता है। पपीते में कई पाचक एंजाइम्स होते हैं। साथ ही इसमें कई डाइट्री फाइबर्स भी होते हैं जिसकी वजह से पाचन क्रिया सही रहती है।

पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द में

जिन महिलाओं को पीरियड्स के दौरान दर्द की शिकायत होती है उन्हें पपीते का सेवन करना चाहिए। पपीते के सेवन से एक ओर जहां पीरियड साइकिल नियमित रहता है वहीं दर्द में भी आराम मिलता है।

पपीता गठिया रोग के लिए
गठिया रोग एक ऐसा रोग है जो की शारीर को बिलकुल दुर्बल बना देता है और हड्डियों को को बुरी तरह से प्रभावित कर देता है पपीते में विटामिन सी मौजूद होने से गठिया रोग से निजात मिलती है।

loading...