Breaking News

हाइड्रोसील (HYDROCELE)का आयुर्वेदिक घरेलु उपचार


1. छोटी कटेरी (कटेली ) की जड़ की छाल (ताजा होतो पंद्रह ग्राम , सूखी हो तो दस ग्राम ) और सात काली मिर्च लें . दोनों को घोंट घोंट कर 125 ग्राम पानी में मिलकर रोज सुबह सेवन करें .एक सप्ताह में फायदा होगा .

2. माजूफल बीस ग्राम , फिटकरी पांच ग्राम लें. दोनों को बारीक पीसकर अन्डकोशों पर थोड़ी थोड़ी देर बाद दो सप्ताह  तक लेप का प्रयोग करवाएं . अंड वृद्धि में ये बहुत उपयोगी है .

3. तम्बाकू का पत्ता गर्म करके अंडकोशों पर बाँध दें और रोगी को लंगोट पहनवा दें . एक घंटे में लंगोट भीग जाएगा , तब दूसरा लंगोट बदलवा दें , इस प्रकार हर घंटे पर बदलवाएं . खुजली होगी पर खुज्लायें नहीं , सुबह तम्बाकू के पत्ते को खोलकर फेंक दें . अंड कोशों में सुराख हो गए हों तो वहां मक्खन लगा दें . कुछ ही दिनों के प्रयोग से अंडकोष सही स्थिति में आ जायेंगे .
4. इन्द्रायण की जड़ को कूट पीस कर कपडे से छान लें . इसे अरंडी के तेल में मिलाकर बढे हुए अंडकोष पर लेप करें.  इन्द्रायण की जड़ का ही चूर्ण दो ग्राम रोज सुबह दूध से सेवन करें . एक सप्ताह में आराम हो जाएगा . पूरा फायदा होने तक जारी रखें .

5. आम के पत्ते बीस ग्राम , सेंधा नमक दस ग्राम दोनों को बारीक पीसकर थोडा गर्म करके लेप करने से अंडकोष  वृद्धि में आराम हो जाता है . 

कोई टिप्पणी नहीं