Breaking News

बवासीर का अंत तुरंत जादू की तरह असर दिखाती है यह गोली


बवासीर का अंत तुरंत जादू की तरह असर दिखाती है यह गोली

आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगे तो जरुर शेयर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग लाभ उठा सकें अर्शोध्नी वटी एक आयुर्वेदिक दवा है. यह दवा दोनों प्रकार के बवासीर के लिए लाभदायक है. बवासीर के दो प्रकार माने जाते हैं: बादी और खूनी. खूनी बवासीर, में जब रक्तस्राव ज्यादा हो तो इस दवा का प्रयोग इसे रोकने में मदद करता है. इस दवा का नियमित प्रयोग बवासीर को नष्ट करता है. बावासीर में इसका प्रयोग मस्सों को सुखा देता है. यह दर्द, जलन, खुजली तथा बवासीर से जुडी अन्य स्वास्थ्य समस्याओं में आराम दिलाती है। अर्शोघ्नी वटी दस्तावर laxative है और कब्ज़ को दूर करती है. यह दवा वायुनाशक और रक्त-रोधक है.

अर्शोघ्नी वटी के घटक निम्बोली २४ ग्राम; बकायन के फल की मींगी २४ ग्राम; खून-खराबा (यूनानी-दमउल अखवे) २४ ग्राम; तृणकान्त पिष्टी १२ ग्राम; शुद्ध रसौत ७२ ग्राम;

बनाने की विधि: पहले निम्बोली और बकायन की मींगी को अच्छे से पीसकर बारीक़ पाउडर बना उसमे अन्य द्रव मिला दें और २ रत्ती की गोलियां बनाकर सुखा लें.

अर्शोघ्नी वटी के चिकित्सीय उपयोग
यह दवा अर्श या बवासीर piles के उपचार में प्रयोग की जाती है. यह शरीर से विषाक्त पदार्थो को निकलती है और वायुनाशक है. यह कब्ज़ में आराम देती है और रक्त बवासीर bleeding piles में ब्लीडिंग को बंद करती है.

सेवन विधि और मात्रा 
1se 2  गोली, दिन में दो बार, सुबह और शाम लें.
इसे मट्ठे या ठन्डे पानी के साथ लें.

 बवासीर के मरीज को कब्ज नहीं रहनी चाहिए कब्ज ना रहे इस का खास ध्यान रखें

सूखे मस्से वाली बवासीर के लिए
अर्शोघ्नी बटी दो गोलियां
त्रिफला गूगल दो गोलियां
पुनर्नवादि मंडूर एक गोली

 यह एक मात्रा है ऐसी दो मात्राएं दिन में दो बार ताजे पानी के साथ ले

कम से कम 2 से 3 महीने  इसी के साथ #अभयारिष्ट छह चम्मच आधा कप पानी में खाना खाने के बाद दोपहर और रात को ले

खूनी बवासीर के लिए 

अर्शोघ्नी बटी दो गोलियां
त्रिफला Google दो गोलियां
महामंजिष्ठादि घनवटी दो गोलियां

यह एक मात्रा है ऐसी दो मात्राएं दिन में दो बार ताजे पानी के साथ ले
इसके लिए भी

अभयारिष्ट
पुनर्वारिष्ट
महामंजिष्ठादि
यह तीनों बराबर मात्रा में मिलाकर रख लीजिए इसमें से 8 चम्मच खाना खाने के बाद दोपहर और रात को लीजिए

अगर बवासीर में खून की मात्रा बहुत ज्यादा आती हो तो हमदर्द कंपनी की #कुर्स_बंदिश_खून एक गोली दिन में दो बार इन्हीं दवाइयों के साथ ले जब तक खून आता रहे जब खून आना बंद हो जाए  kurs  बंदिश खून लेना बंद कर दें

सावधानी कुर्स बंदिश खून केवल खून आने तक ही लेनी है जब खून आना बंद हो जाए kurs बंदिश खून किसी भी कीमत पर मत लें अन्यथा खून गाढ़ा होकर हृदय को नुकसान पहुंचा सकता है

 सभी दवाइयां आयुर्वेदिक स्टोर से ऊपर लिखे गए नाम से ही मिलती है और सभी प्रसिद्ध कंपनियां इसी नाम से बनाती है

बवासीर के मस्सों पर लगाने के लिए आप काशीसादि तेल or  इरिमेदादि तेल or पाईलेक्स क्रीम
 इन तीनों में से किसी एक का प्रयोग गुदा में दिन में तीन बार करना चाहिए और हर बार शौच जाने के बाद

या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें.
इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है.
इसे सभी भारत की प्रसिद्ध कंपनियां डाबर बैद्यनाथ झंडू व्यास फार्मास्यूटिकल इसी नाम से बनाती है

>>एसिडिटी और हाइपर एसिडिटी के लिए जादुई नुस्खा।
>>Migraine आधे सिर दर्द से छुटकारा पाने केआयुर्वेदिक इलाज

कोई टिप्पणी नहीं